Followers

Sunday, 24 March 2013

"बढ़ चलो"


स्वरों को अब त्वरित कर दो,
वेग उनमे ऐसा भर दो,
मार्ग न अवरुद्ध कोई,
कपटी कर पाए जो उनका ....


ज्वाला अब जो जल उठी है,
हर ह्रदय में उष्णता हो,
स्वप्न कुंदन से तपें अब,
निखर आये रूप उनका ....


बढ़ो आगे चल पड़ो अब ,
कोई कोना रह न जाए,
शाप का अब अंत कर दो,
अंश कोई रह न जाए .....


विषाक्त वृक्ष कट चुका  है,
ठूंठ अब  शेष रह गया है ....
ठूंठ को निर्बल न समझो,
कोई  कोपल आ  न जाए .....


जड़ों का अब अंत कर दो,
विषवमन अब कर न पाए ,
उर्जा का अब संचरण हो,
चहुँ ओर प्रसार अनंत कर दो ....


11 comments:

  1. विषाक्त वृक्ष कट चुका है,
    ठूंठ अब शेष रह गया है ....
    ठूंठ को निर्बल न समझो,
    कोई कोपल आ न जाए .....


    अच्छी रचना, सुंदर भाव
    होली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. सही कहा है आपने !

    ReplyDelete
  3. दिनकर की आत्मा समां गई है . बहुत प्रेरणादायक . वाह

    ReplyDelete
  4. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन - आर्यभट्ट जयंती - गणितज्ञ, खगोलशास्त्री, वैज्ञानिक (४७६-५५० ईस्वी ) पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार आपका
      "तुषार राज रस्तोगी जी "

      सादर

      Delete
  5. विषाक्त वृक्ष कट चुका है,
    ठूंठ अब शेष रह गया है ....
    ठूंठ को निर्बल न समझो,
    कोई कोपल आ न जाए ....bahut sundar
    latest post"मेरे विचार मेरी अनुभूति " ब्लॉग की वर्षगांठ
    latest post वासन्ती दुर्गा पूजा

    ReplyDelete
  6. बहुत प्रेरणादायक

    ReplyDelete